चमत्कार: देवता ने खुद ढूंढ निकाली 300 साल पुरानी मूर्ति !

क्या आप इसे चमत्कार ही कहेंगे कि एक देवता ने खुद ही 300 साल पुरानी मूर्ति ढूंढ निकाली है। भारत में ही ये हुआ है। जानिए इस दिलचस्प खबर के बारे में।

New Delhi, Feb 05: इसे चमत्कार नहीं तो और क्या कहेंगे कि एक देवता ने खुद ही अपनी 300 साल पुरानी मूर्ति ढूंढ निकाली। भारतवर्ष में ऐसा हुआ है और वो भी देवभूमि कहे जाने वाले उत्तराखंड में ऐसी खबरद सांमने आई है। इसके बाद से देशभर के लोगों का ध्यान इस तरफ गया है। उत्तराखंड में ग्राम देवता का अपना अलग ही महत्व है। ग्राम देवताओं को मूर्ति या निसाण के रूप में पूजा जाता है।

खुद ढूंढ निकाली मूर्ति
कई बार उत्तराखंड में ऐसी घटनाएं घटित हो जाती हैं, जिन पर यकीन करना थोड़ा मुश्किल हो जाता है। ये घटना उत्तराखंड के जोशीमठ में हुई है। भगवान बदरीनाथ जोशीमठ में ही शीतकाल के दौरान प्रवास पर रहते हैं। जोशीमठ के रविग्राम में 1971 से मलबे में दबी एक देवता की मूर्ति को जिस तरह से बाहर निकाला गया है, उसे लोग चम त्कार ही कह रहे हैं।

जाख देवता का महत्व है
रविग्राम में बीते कई दिनों से जाख देवता की यात्रा करवाई जा रही है। इस दौरान ब्रह्मादेव की डोली और छत्र को असपास के गांवों में भ्रमण के लिए ले जाया जाता है। इस दौरान लोग जाख देवता को क्षेत्र भ्रमण के दौरान स्थानीय लोग जाख देवता से मानौतियां मांगते हैं। जिनकी मनौतियां पूरी हो जाती हैं वे जाख देवता को कपड़ा, धूप, चंदन आदि भेंट चढ़ाते हैं।

एक आदेश दिया और खुदाई
बताया जाता है कि इस दौरान जाख देवता के पश्वा के आदेश पर उन्हें गांव से ढाई किलोमीटर दूर ले जाया गया। इस जगह का नाम होसी तोक है। वहां पर पश्वा के कहने पर इलाके की खुदाई की ही। उस खुदाई के दौरान इस जगह से कांस्य की जेठुवा देवता की प्रतिमा मिली है। इसके साथ ही वहां पर ब्रह्मा देवता की पत्थर की मूर्ति और एक आरती का बर्तन मिला है।

लोगों ने बताई खास बात
इसके बाद स्थानीय लोगों ने कुछ खास बातें बताई। स्थानीय लोगों ने बताया कि साल 1971 में यहां भूस्खलन हुआ था। इस दौरान वहां स्थित जेठुला देवता का मंदिर जंमीदोज़ हो गया था। 1997 के बाद इतना लंबा वक्त बीत गया और लोग इस बारे में भूलने लगे थे। लेकिन जाख देवता के आदेश के बाद यहां खुदाई की तो जमीन में दबी मूर्तियां और आरती का पात्र मिला।

पहले भी की गई थी कोशिश
स्थानीय लोगों का कहना है कि पहले भी देवता की मूर्तियों को ढूंढने की कोशिश की गई थी। उस दौरान सफलता नहीं मिली थी। स्थानीय लोग हैरान हैं कि आखिर ये सब कैसे हो गया। जाख देवता को को पहाड़ी इलाकों में भूमि क्षेत्रपाल के रूप में पूजा जाता है। जेठाऊ देवता को जाख देवता का बड़ा भाई कहा जाता है। ये मूर्ति लोगों को खुदाई के बात मिली है।

300 साल पुराना मंदिर
कहा जाता है कि जेठाऊ देवता का मंदिर 300 साल पुराना था। भूस्खलन के बाद ये मंदिर ही जमींदोज हो गया तो, मूर्तिया और आरती के पात्र भी मिट्टी में ही दब गए थे। लोग इस बात को बड़ा चमत्कार मान रहे हैं और फिर से देवता की पूजा अर्चना में जुट गए हैं। देखना है कि इस खबर पर आगे क्या क्या होता है। फैसला आस्था और अंधविश्वास के बीच का है।